Gyanvapi Masjid Survey Report: क्या है ज्ञानवापी विवाद? जानिए पूरा मामला..

वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर में आज जांच पूरी हो गई। रिपोर्ट कल कोर्ट जाएगी। जांच में मिले सबूतों के बारे में अलग-अलग हिसाब-किताब बनाए गए हैं। हिंदू पक्ष के सोहनलाल आर्य ने मीडिया को बताया कि अंदर बाबा पाए गए। उन्होंने कहा, “जिन खोजा तीन पाया.. और फिर समझ में आया, जो मैं ढूंढ रहा था, मुझे और भी मिला है।” आर्य का दावा है कि गुंबद, दीवारों और फर्श की जांच के दौरान दफन से बहुत कुछ सबूत देखा गया था। इस बीच, अंजुमन इनजंतिया मस्जिद काउंसिल के वकील अभयनाथ यादव और मुमताज अहमद ने कहा कि अंदर कुछ भी नहीं मिला है।

ज्ञानवापी परिसर में एक मस्जिद है जिसकी जांच की गई। मस्जिद के ठीक बगल में काशी विश्वनाथ मंदिर है। इसे कथित तौर पर औरंगजेब ने एक मंदिर को तोड़कर बनवाया था। ऐसे में आइए आपको बताते हैं इस विवाद की शुरुआत से लेकर अब तक की पूरी कहानी।

पहले विवाद जान लीजिए

ज्ञानवापी विवाद को लेकर हिंदू पक्ष का दावा है कि इसके नीचे आदि विश्वेश्वर का 100 फुट ऊंचा स्वयंभू ज्योतिर्लिंग है। काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण लगभग 2050 साल पहले महाराजा विक्रमादित्य ने कराया था, लेकिन मुगल सम्राट औरंगजेब ने 1664 में मंदिर को ध्वस्त कर दिया था। बयान में कहा गया है कि मंदिर के विध्वंस के बाद मस्जिद को अब ज्ञानवापी मस्जिद के नाम से जाना जाता है।

याचिकाकर्ताओं ने यह निर्धारित करने के लिए ज्ञानवापी परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण का अनुरोध किया कि मंदिर का भूमिगत हिस्सा मंदिर का अवशेष है या नहीं। साथ ही विवादित ढांचे के फर्श को तोड़कर यह भी पता लगाया जाए कि क्या 100 फुट ऊंचा ज्योतिर्लिंग स्वयंभू विश्वेश्वरनाथ भी है। मस्जिदों की दीवारों का भी निरीक्षण किया जाना चाहिए ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि वे मंदिरों से संबंधित हैं या नहीं। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि ज्ञानवापी मस्जिद काशी विश्वनाथ मंदिर के खंडहरों पर बनाई गई थी।

दावों की सुनवाई करते हुए, अदालत ने एक अदालत आयुक्त की नियुक्ति की और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) का गठन किया। इस टीम को ज्ञानवापी परिसर का सर्वे करने के लिए कहा गया था। सोमवार को सर्वे का काम पूरा हो गया।

अभी क्या स्थिति है?

फिलहाल सरकार ज्ञानवापी मस्जिद में कम संख्या में लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत देती है। ये लोग हमेशा यहां नमाज अदा करने आते हैं। इन लोगों के अलावा यहां कोई नमाज नहीं पढ़ सकता। वहीं, मस्जिद से सटे काशी विश्वनाथ मंदिर का भी जीर्णोद्धार कराया गया। इसकी शुरुआत भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी। मठ में पहले से कहीं अधिक श्रद्धालु हैं।

समिति के सदस्य कौन हैं? जांच में क्या हुआ?

कमेटी में कोर्ट कमिश्नर एडवोकेट अजय कुमार मिश्रा, विशाल कुमार सिंह, असिस्टेंट कमिश्नर अजय सिंह शामिल हैं।
इसमें हिंदू और मुस्लिम अधिवक्ता भी शामिल हैं।
इसके अलावा सर्वे टीम में पुरातत्व विशेषज्ञ भी शामिल हैं।
आयोग ने अपनी जांच के दौरान पाया कि क्या मौजूदा ढांचे का निर्माण भवन को गिराकर या इमारत में कुछ जोड़कर किया गया है। समिति ने यह भी पूछा कि क्या मस्जिद के निर्माण से पहले विवादित स्थल पर हिंदू समुदाय का कोई मंदिर मौजूद था।
कमेटी ने पूरे काम की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की।

नोट: पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर और कॉमेंट जरूर करे..!!

Leave a Comment