ध्रुव राठी सहित 10 यूट्यूब चैनलों के 45 वीडियो को सरकार ने किया बैन

कुछ वीडियो में जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों के साथ देश की सीमाओं को भी गलत तरीके से दिखाया गया है। यह देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को कमजोर करता है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने कहा कि सरकार उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है जो देश की संप्रभुता और अखंडता, राष्ट्रीय सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था को कमजोर करना चाहते हैं।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था का उल्लंघन करने और नफरत फैलाने वाले 10 यूट्यूब चैनलों पर 45 वीडियो के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। मंत्रालय ने 45 वीडियो को ब्लॉक करने का निर्देश दिया है। इन वीडियो को 1,000,000 से अधिक लोगों ने देखा। यह फैसला 23 सितंबर को किया गया था।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा “सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने देश में नशीली दवाओं के छिड़काव और नफरत फैलाने के खिलाफ कार्रवाई में 10 YouTube चैनलों के 45 वीडियो को अवरुद्ध करने का निर्देश दिया है।”

यूट्यूब से हटाए जाने वाले वीडियो की लिस्ट

वीडियो में दावा किया गया है कि सरकार ने कुछ समुदायों को उनके धार्मिक अधिकारों से वंचित किया है। अनुराग ठाकुर ने कहा: “इस तरह के वीडियो के माध्यम से सामुदायिक तनाव पैदा करने और सिस्टम को बाधित करने का प्रयास।”

राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र पर दुष्प्रचार

मंत्रालय द्वारा अवरुद्ध किए गए कुछ वीडियो का इस्तेमाल अग्निपास योजना, भारतीय सशस्त्र बलों, भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों, कश्मीर और अन्य मुद्दों को बढ़ावा देने के लिए किया गया था।

देश की सीमा को गलत दिखाया गया

इसी तरह, कुछ वीडियो में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों के साथ देश की सीमाओं को गलत तरीके से दिखाया गया है। यह देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को कमजोर करता है।

मंत्रालय ने कहा कि सरकार उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है जो देश की संप्रभुता और अखंडता, राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेशी संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था को कमजोर करना चाहते हैं।

देश के प्रधानमंत्री की छवि खराब करने की कोशिश

मंत्रालय ने यह भी कहा कि वीडियो के जरिए प्रधानमंत्री और अन्य राष्ट्राध्यक्षों को बदनाम करने की कोशिश की गई। वहीं, चीन की घुसपैठ के भी दावे किए जा रहे हैं। वीडियो में एनएसए को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की गई थी।

इतना ही नहीं, भारतीय सेना के भीतर अंदरूनी कलह जैसी भ्रामक टिप्पणियां भी की गई हैं। दूसरी ओर सूत्रों का कहना है की, YouTube ने ध्रुव राठी के भारतीय सीमा से जुड़े जम्मू-कश्मीर के वीडियो को नहीं हटाया है।

Leave a Comment