India

Delhi News: आग की लपटें – चीखते-चिल्लाते लोग, खरोंचे पुराने जख्म, याद है उपहार सिनेमा हादसा

Advertisement

राजधानी दिल्ली में एक और आग ने एक बार फिर देश को हिला कर रख दिया है. आग की लपटों में कई बेकसूर लोग जलकर खाक हो गए। इस भयानक हादसे को जिसने भी देखा वो दंग रह गया। दिल्ली के मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास शुक्रवार शाम करीब 4 बजे एक व्यावसायिक इमारत में आग लग गई, जिसमें 27 लोगों की मौत हो गई और जलकर राख हो गया।

 

आग इतनी भीषण थी कि लोग लोगों को बचाने के लिए इधर-उधर भागते रहे। कई लोग ऊपर से कूद पड़े। इमारत के चारों ओर तेज लपटें उठीं, लोग चिल्ला रहे थे, और राजधानी दिल्ली में पहले की आग से जख्मी जख्म थे। हादसे में 27 लोगों की मौत हो गई।

Advertisement

 

मरने वालों में दमकल विभाग के दो कर्मचारी भी शामिल हैं। वहीं, 10 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। 19 लोग लापता बताए जा रहे हैं। पुलिस ने हरीश गोयल और वरुण गोयल बिल्डिंग के मालिकों को शुक्रवार रात गिरफ्तार किया है. जिस इमारत में आग लगी, उसमें कई कंपनियों के कार्यालय हैं।

 

Advertisement

इमारत की पहली मंजिल पर सीसीटीवी कारखाने और गोदाम हैं। इधर, शॉर्ट सर्किट से लगी आग इतनी भीषण थी कि पूरी इमारत जल कर राख हो गई. कारखानों में बड़ी संख्या में मजदूर काम करते हैं। बीती रात शुरू हुई आपदा राहत जारी है।

 

बताया जा रहा है कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सभी नेताओं ने दुख जताया है. इससे पहले भी राजधानी में लगी आग में कई लोगों की मौत हो चुकी है. 1997 है। निर्देशक जेपी दत्ता द्वारा निर्देशित फिल्म फ्रंटियर को दिल्ली के उपहार सिनेमा में दिखाया गया था।

Advertisement

13 जून 1997 को दक्षिण दिल्ली के ग्रीन पार्क में उपहार सिनेमा में फिल्म फ्रंटियर की स्क्रीनिंग के दौरान आग लग गई। इस मामले में 59 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे में 100 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। आग से पूरा देश स्तब्ध था। वहीं, जांच के दौरान पता चला कि थिएटर में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं थे.

 

इसी तरह 20 नवंबर 2011 को दिल्ली के नंदनगरी इलाके में एक घटना में आग लगने से 14 लोगों की मौत हो गई थी. यहां किन्नरों की सभा का कार्यक्रम चल रहा है. इस घटना में 14 किन्नरों की मौत हो गई और 40 किन्नर गंभीर रूप से घायल हो गए।

Advertisement

 

8 दिसंबर, 2019 को 2019 अंजीमंडी जिले में आग लग गई, जिसमें 43 लोगों की मौत हो गई। जांच के बाद आग लगने का कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है। इसी तरह 12 फरवरी 2019 को करोल बाग स्थित अर्पित होटल में आग लग गई, जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई। इस दौरान कई लोगों ने आग से नष्ट होने के डर से इमारत से छलांग लगा दी। घटना में कई लोग बुरी तरह झुलस भी गए।

Advertisement

Leave a Comment